Aankhon Ki Boli

Short Poem (Hindi) 


"आँखों कि बोली "

आँखों कि बोली सब यहाँ समझते, 
तो दिल यहाँ बिखरे क्यों होते|

इश्क़ है तो बता दो, 
फिक्र है तो जता दो, 
अपना समझते हो तो अपना लो, 

किस बात का इंतज़ार तुम हो करते!

                                      
  Anupriya Asthana         

© Anupriya Asthana and Hashtag Inkpen, 2018

Comments

Popular posts from this blog

Time

I See God In